लखनऊ : समाजवादी पार्टी से छह साल के निकाले गये पार्टी के पूर्व सचिव रामगोपाल यादव ने निष्कासन को असंवैधानिक करार दिया है. कहा कि पार्टी में शीर्ष स्तर पर असंवैधानिक काम किया जा रहा है. बिना संसदीय बोर्ड के कैसे उम्मीदवार तय किया गया, मैं उसका सदस्य सचिव था. कहां मीटिंग हुई, बताएं. पार्टी के असंवैधानिक कार्यों के खिलाफ मेरे पास शिकायतें थीं और आपातकालीन बैठक के लिए कोई समय नहीं तय होता है.

Ram-Gopal-Yadav

रामगोपाल ने कहा कि मुलायम को पार्टी संविधान की जानकारी नहीं है. यूपी में ही सिर्फ निर्वाचित डेलिगेट्स हैं और उन्हीं की मांग पर बैठक बुलायी गयी है. दूसरे राज्यों में मनोनीत लोग हैं. अत: निर्वाचित डेलिगेट्स के आग्रह पर बैठक बुलायी गयी. हारने वालों को नेताजी ने टिकट दे दिया है.

गैर यादव से वोट मांगने की जरूरत पड़ती है, तो उन्हें रामगोपाल की याद आती है. चुनाव में पता चल जायेगा कि गैर यादव में किसकी पैठ है. उन्होंने कहा कि पूरा हिंदुस्तान जानता है कि मुख्यमंत्री का भविष्य कौन खराब कर रहा है. मैंने प्रशासनिक मामले में अखिलेश को कोई राय नहीं दी, न सिफारिश  करता हूं, मैं लखनऊ कम आता हूं. अगर काम करवाना होगा तो किसी अफसर को कह दूंगा, कर देगा. मेरे हर किसी से अच्छे रिश्ते रहे हैं, चाहे बीएसपी, बीजेपी या कांग्रेस हो और किसी सरकार में मेरे काम हो सकते हैं. मैं अब भी पार्टी का महासचिव हूं, कल भी रहूंगा. उन्होंने कहा कि अगले कदम के बारे में एक जनवरी के बाद बतायेंगे.