किसान आंदोलन के बाद आज देश भर में किसान हाईवे पर चक्काजाम करने जा रहे है. कर्जमाफी और फसलों का पूरा दाम मिलने की मांग को लेकर 22 राज्‍यों के किसान अपने-अपने यहां हाइवे पर पहुंच रहे हैं. हरियाणा में आठ, यूपी में 14, बुंदेलखंड में 6, राजस्‍थान, पंजाब में दस-दस, बिहार में पांच, कर्नाटक में 3 और गुजरात में 2 हाइवे जाम किए जाएंगे. मध्‍य प्रदेश में कितने हाइवे जाम होंगे, इसका खुलासा सुरक्षा कारणों से नहीं किया गया है. दिल्‍ली को इस आंदोलन से मुक्‍त रखा गया है. दोपहर 12 से तीन बजे तक होने वाले इस आंदोलन के लिए किसान अपने घरों से निकल गए हैं. मध्‍य प्रदेश के लगभग हर जिले में नेशनल हाईवे पर पुलिस तैनात है. इसकी अगुवाई करने वाले राष्‍ट्रीय किसान मजदूर संघ की कोर टीम के सदस्‍य बिनोद आनंद का कहना है कि यह आंदोलन सरकार की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ बड़ा सांकेतिक आंदोलन होगा.
मध्‍य प्रदेश में छह किसानों की मौत के बाद राष्‍ट्रीय किसान मजदूर संघ ने आंदोलन छेड़ा हुआ है. खासतौर पर मंदसौर मामले को लेकर. मंच से 62 किसान संगठन जुड़े हुए हैं. उन्‍होंने बताया कि संघ के अध्‍यक्ष शिव कुमार शर्मा ‘कक्‍काजी’ के नेतृत्‍व में मंदसौर मामले को लेकर राष्‍ट्रीय मानवाधिकार आयोग में शिकायत भी दी गई है. कक्‍काजी का कहना है कि सरकार लागत के आधार पर लाभकारी समर्थन मूल्‍य का निर्धारण करे. जो कि लागत मूल्‍य का 50 फीसदी तक हो.