अमूमन कहा जाता है कि महिलाओं के मासिक धर्म के दौरान सेक्स नहीं करना चाहिए, क्योंकि इससे बहुत नुकसान हो सकता है लेकिन ये एक मिथ है. दरअसल महिलाओं में मासिक धर्म का होना एक प्राकृतिक शारीरिक प्रकिया है और ज़्यादातर महिलाओं को ये पता नहीं होता की मासिक धर्म में क्या करें और क्या ना करें. खासकर बात जब मासिक धर्म के दौरान सेक्स की हो. आमतौर पर हमारी यह धारणा होती है कि मासिक धर्म के दौरान सेक्स करना सही नहीं है. लेकिन क्या वास्तव में ऐसा है, आइए जानते हैं… मासिक धर्म में भी आप कर सकती हैं सेक्स मासिक धर्म में हैं सेक्स के ये फायदे अगर आप मासिक धर्म के दौरान सहवास करना चाहती हैं तो कर सकती हैं. अगर दोनों पार्टनर की रजामंदी हो सेक्स तो वैज्ञानिक रूप से किसी तरह का कोई नुकसान नहीं है. कुछ लोग तो मासिक धर्म के दौरान ही सहवास करना ज्यादा पसंद करते हैं, क्योंकि उस दौरान महिला जनन अंग में गीलापन पहले से ही बना रहता है जिससे सेक्स करने में आसानी होती है. मासिक धर्म में सेक्स करने से गर्भ ठहरने की आशंका न के बराबर रह जाती है. एक खास बात यह भी है कि मासिक धर्म में सेक्स के दौरान अगर किसी महिला को चरमसुख मिलता है तो उसे मासिक धर्म के दौरान उसे होने वाले कमर और पेड़ू के दर्द से काफी आराम मिलता है. मासिक धर्म में सेक्स से स्त्री और पुरुष दोनों को कोई नुकसान नहीं होता. लेकिन जो महिलाएं मलशुद्धि के लिए पानी की बजाय टिशू पेपर का इस्तेमाल करती हैं, उनके साथ मासिक धर्म में सेक्स करने से इन्फेक्शन हो सकता है क्योंकि मासिक के दौरान होने वाला रक्त-स्राव गुदा द्वार के करीब होने की वजह से वहां बैक्टीरिया के बढ़ने की आशंका पैदा हो सकती है. इससे बचने के लिए ऐसी महिलाओं के साथ सेक्स करते समय कन्डोम का इस्तेमाल करना चाहिए. अगर आपके पार्टनर को मासिक धर्म के दौरान पेट या योनि में दर्द नहीं हो रहा हो और यदि आपके पार्टनर को कोई आपत्ति न हो तो मासिक धर्म के दौरान कंडोम के बिना भी सेक्स किया जा सकता है. इससे किसी तरह की बीमारी नहीं होती. लेकिन मासिक धर्म के दौरान यदि महिला को किसी तरह के इन्फेक्शन की आशंका है तो ऐसे में सेक्स कदापि नहीं करना चाहिए. मासिक धर्म के समय सेक्स करने के लिए यौनांगों की साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देना चाहिए. सेक्स के बाद शिश्न तथा योनि को ठीक तरह से पानी से धोना चाहिए. माइल्ड डिसइंफेक्टेड मेडिसिन मिलाकर भी सप्ताह में दो बार यौनांगों की सफाई करनी चाहिए.