हरिद्वार: अध्यात्म चेतना संघ की ओर से रविवार को धर्मनगरी में आयोजित गीता महोत्सव में पंतजलि योगपीठ के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण को भारतीय संस्कृति को गौरवान्वित करने के लिए इस वर्ष का सर्वश्रेष्ठ ‘गीता रत्न’ सम्मान से नवाजा गया।आचार्य बालकृष्ण को 'गीता रत्न' सम्मान से नवाजा गया इसके अलावा आयुर्वेद, शिक्षा, साहित्य और ललित कला के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वालों और विभिन्न विद्यालयों की गीता प्रतियोगिता के विजेताओं को भी भजन गायक अनूप जलोटा ने सम्मानित किया। इस मौके पर गीता और योगेश्वर श्रीकृष्ण के उपदेशों पर आधारित नृत्य नाटिकाओं का भी मंचन हुआ। एक फार्म हाउस में आयोजित महोत्सव में अध्यात्म चेतना संघ के संस्थापक एवं संचालक आचार्य करुणेश मिश्र ने बताया कि समाज में अध्यात्म का संचार कर संस्कार एवं संस्कृति के संवद्र्धन के लिए हर वर्ष यह सम्मान प्रदान किए जाते हैं।  इस बार साहित्य के क्षेत्र में विशेष योगदान के लिए डॉ. निरंजन मिश्र को ‘साहित्य अकादमी’ अवार्ड और शिक्षा के क्षेत्र में डॉ. योगेंद्रनाथ शर्मा ‘अरुण’, चिकित्सा के क्षेत्र में वैद्य सोम दत्त शर्मा, साहित्य सेवा के लिए प्रसिद्ध शायर अफजल मंगलौरी, ललित कला के क्षेत्र में सृष्टि अग्रवाल व समाज सेवा के क्षेत्र में विशेष योगदान के लिए रामशरण चावला को ‘हरिद्वार गौरव’ से सम्मान से नवाजा गया।