पंजाब में हर किसी पर आरोप लगाने वाले आम आदमी पार्टी के नेता सुखपाल खैहरा खुदा आरोपों के घेरे में हैं. उन पर पंजाब के संगरूर के रहने वाले एक किसान मनप्रीत ने झांसा देने का आरोप लगाया है. मनप्रीत खुद भी आम आदमी पार्टी का कार्यकर्ता रह चुका है. मनप्रीत का आरोप है कि खैहरा ने उसे हाल ही में हुए पंजाब विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान झांसा दिया कि चुनाव के बाद आम आदमी पार्टी की सरकार बनने पर उसे किसी सरकारी विभाग में चेयरमैन पद दिया जाएगा और ये लालच देकर उससे करीब बीस लाख रुपये हड़प लिये. उसने कहा कि उसके पास इस सबके तमाम सबूत भी हैं. किसान ने इस पूरे मामले की शिकायत पंजाब के डीजीपी को भी की है और अपने साथ हुए इस धोखे और गबन का आरोप सुखपाल खैहरा पर लगाया है. पंजाब पुलिस ने उसकी शिकायत ले ली है और इस पूरे मामले में जांच के आदेश दे दिए गए हैं. हालांकि सुखपाल खैहरा ने इन तमाम आरोपों को राजनीतिक साजिश करार देते हुए इन तमाम आरोपों को दरनिकार कर दिया है. साथ ही उन्होंने इसे कांग्रेस और पंजाब के कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत की साजिश करार दिया है. वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह के मुताबिक इस पूरे मामले की जानकारी और शिकायत पंजाब पुलिस को मिल चुकी है और पुलिस इसकी जांच कर रही है. वहीं पिछले कुछ दिनों से सुखपाल खैहरा के आरोपों को झेल रहे पंजाब के कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत ने कहा कि अब जब खुद खैहरा पर ही पैसे लेने के आरोप लगे हैं तो उन्हें दूसरों से जवाब मांगने से पहले खुद अपने ऊपर लगे आरोपों का जवाब देना चाहिए. पंजाब की राजनीति में इस वक्त आरोप-प्रत्यारोप का दौर चल रहा है. अब तक पंजाब में दूसरों पर आरोप लगाने वाली आम आदमी पार्टी और उसके फायरब्रांड नेता सुखपाल खैहरा अब खुद आरोपों के घेरे में हैं.