हालांकि बिंद्रा ने किसी का नाम नहीं लिया है लेकिन उनकी इस बात को इंडियन क्रिकेट टीम में मचे घमासान से जोड़ कर देखा जा रहा है.

नई दिल्ली. भारत के एकमात्र व्यक्तिगत ओलंपिक गोल्ड मेडल विजेता अभिनव बिंद्रा ने कहा है कि आखिर कैसे वह 20 साल तक उस कोच से जुड़े रहे जिससे वह नफरत करते थे. हालांकि बिंद्रा ने किसी का नाम नहीं लिया है लेकिन उनकी इस बात को इंडियन क्रिकेट टीम में मचे घमासान से जोड़ कर देखा जा रहा है. कप्तान विराट कोहली से मतभेद के कारण अनिल कुंबले के इस्तीफा देने के घंटों बाद बिंद्रा ने जर्मनी के उवे रीस्टरर के साथ अपने समीकरण को लेकर ट्वीट किया जो लंबे समय तक उनके कोचिंग स्टाफ का हिस्सा रहे. बिंद्रा ने ट्वीट किया, 'मेरे सबसे बड़े टीचर कोच रीस्टरर थे. मैं उनसे नफरत करता था. लेकिन 20 साल तक उनके साथ रहा. वह हमेशा मुझे वह बातें बोलते थे जो मैं सुनना नहीं चाहता था.' जस्टसेयिंग.
यह भी पढ़े :  चैंपियंस ट्रॉफी में पहली बार भारत और पाकिस्तान की टीमें फाइनल में भिड़ेंगी।
लबें समय तक बिंद्रा से जुड़े रहे रीस्टरर  रीस्टरर 2008 में बीजिंग ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतने के दौरान भी बिंद्रा के सहयोगी स्टाफ का हिस्सा थे. वह पिछले साल रियो ओलंपिक में भी बिंद्रा के साथ जुड़े थे जहां यह दिग्गज भारतीय निशानेबाज 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में चौथे स्थान पर रहा था और फिर संन्यास ले लिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *