आजादी के बाद से ही भारत ने हमेशा चाहा कि पाकिस्तान के साथ उसके संबंध अच्छे रहें. भारत ने इसके लिये कई बार प्रयास भी किये लेकिन पाकिस्तान ने हमेशा ही भारत के साथ धोखेबाजी की, इसीलिये अब भारत ने पाकिस्तान के प्रति शख्त रवैया अपनाना शुरू कर दिया है. आर्मी चीफ विपिन का कहना है कि जिस तरह से पाकिस्तान की तरफ से जम्मू-कश्मीर में गतिविधियाँ घटने का नाम नहीं ले रही हैं उस हिसाब से कहा जा सकता है कि पाकिस्तान को शांति नहीं चाहिए. आर्मी चीफ ने पहले तो देखा भारतीय सेना का अभ्यास और फिर देखिए पाकिस्तान को लेकर क्या कहा… पीएम मोदी ने अपने कार्यकाल के आरंभ में ही स्पष्ट कर दिया था कि अगर पाकिस्तान ने आतंकवाद पर लगाम नहीं लगाई तो भारत उसे दुनिया से अलग-थलग कर देगा, जिसके बाद भी पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाझ आने का नाम नहीं ले रहा है. जनसत्ता के अनुसार राजस्थान के जैसलमेर में भारत-पाक सीमा के निकट भारतीय सेना के अभ्यास कार्यक्रम में विजयी शिरकत करते हुए कहा है कि अगर पड़ोसी देश आतंकियों के खिलाफ सख्त कदम उठाते हैं तो भारत बातचीत करने को तैयार है. वह इस अभ्यास के स्वयं गवाह बने और उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि पाकिस्तान को शांति चाहिए. आर्मी चीफ ने पहले तो देखा भारतीय सेना का अभ्यास और फिर देखिए पाकिस्तान को लेकर क्या कहा… आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत-पाकिस्तान के बीच पिछले डेढ़ साल से राजनयिक मुद्दों को लेकर बातचीत बंद है. आर्मी चीफ विपिन रावत ने बिना पाकिस्तान का नाम लिए ही ये बातें कही हैं. इस तरह कयास लगाये जा सकते हैं कि आर्मी चीफ का मानना है कि अगर पाकिस्तान अपनी घटिया से बाझ आता है तो ठीक है नहीं तो अंजाम बेहद हु बुरे होंगे. आर्मी चीफ ने पहले तो देखा भारतीय सेना का अभ्यास और फिर देखिए पाकिस्तान को लेकर क्या कहा… गौरतलब है कि इससे पहले भी आर्मी चीफ विपिन रावत का सर्जीकल स्ट्राइक को लेकर बयान आया था. उन्होंने कहा था कि नियंत्रण रेखा को पार करके सर्जीकल स्ट्राइक पाकिस्तान के लिए एक संदेश था जिसे देखकर पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाझ आ जाये. इसके बाद उन्होंने कहा था कि अगर जरुरत पड़ती है तो आगे भी ऐसे सर्जीकल स्ट्राइक को अंजाम दिया जा सकता है.