दिल्ली सरकार से हटाए गए मंत्री कपिल मिश्रा ने कहा कि आप पार्टी केजरीवाल एंड कंपनी ने चंदा लेने में पारदर्शिता नहीं बरती।

नई दिल्ली [स्पेशल डेस्क] । दिल्ली के सीएम केजरीवाल के विश्वस्त सहयोगियों में से एक रहे कपिल मिश्रा अब उनके खिलाफ खुली जंग लड़ रहे हैं। कैंसर बन चुके भ्रष्टाचार के खिलाफ जब केजरीवाल तत्कालीन यूपीए सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरे तो उन्हें जनता का समर्थन मिला। जनसमर्थन से वो दिल्ली की सत्ता पर काबिज होने में कामयाब हुए। लेकिन भ्रष्टाचार की छीटों ने आप पार्टी को भी दागदार कर दिया। केजरीवाल के मंत्रियों तक ही अगर ये आरोप सीमित हुए तो बात कुछ और होती। आप के मंत्रियों पर संगीन आरोपों के बाद जब केजरीवाल के ऊपर उंगलिया उठीं तो एक सवाल उन लोगों के जेहन में कौंधने लगा कि क्या दिल्ली के सीएम ऐसा कर सकते हैं। पिछले एक महीने से हर दिन कपिल मिश्रा आप सरकार पर संगीन आरोप लगा रहे हैं। इसके साथ ही वो सवाल भी करते हैं कि आखिर केजरीवाल जी खुद जवाब देने से क्यों कतरा रहे हैं। कपिल मिश्रा के ताजा आरोप करीब एक महीने पहले सीएम केजरीवाल पर संगीन आरोप लगाने वाले कपिल मिश्रा ने एक बार फिर आप पार्टी और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि पिछले एक महीने से वो जैन और हवाला कारोबारियों के साथ संबंधों का जिक्र करते रहे हैं। उन्होंने इस संबंध में सेबी के सामने दस्तावेज भी रखे हैं। कपिल ने कहा कि पार्टी ने चंदे की जानकारी देते हुए पैन कार्ड की जानकारी छुपाई है। इसके अलावा कुछ फर्जी कंपनियों के ऐसे दस्तावेज भी सामने आए हैं। जिसमें एक मजदूर व्यक्ति को डायरेक्टर बनाया गया है। कपिल ने कहा कि पार्टी की स्थापना के वक्त पूर्व आप नेता शांतिभूषण ने जो चंदा दिया था उसे चुनाव आयोग से भी छिपाया गया। इस संबंध में चुनाव आयोग ने आप पार्टी को नोटिस भेजी है। अब आप नेताओं को लग रहा है कि पार्टी की मान्यता रद की जा सकती है। लिहाजा चंदों में होने वाली गड़बड़ियों को पार्टी के नेता दुरुस्त करने में जुट गए हैं। केजरी पर कपिल अब यूं करेंगे हमला कपिल मिश्रा ने कहा कि आप के काले कारनामों को उजागर करने के लिए 14 जून की शाम से करोलबाग विधानसभा से जनसंपर्क अभियान की शुरुआत की जाएगी। इंडिया अगेंस्ट करप्शन की टीम हर घर जाकर आप नेताओं की हकीकत को लोगों के सामने रखेगी। इसके बाद जनमत संग्रह द्वारा दिल्ली विधानसभा में राइट टू रिकॉल के लिए तारीख तय की जाएगी। 15 मई 2017 को कपिल मिश्रा के लगाए गए आरोप फर्जी नामों  के जरिए केजरीवाल ने लिया पार्टी के लिए फंड कपिल मिश्रा ने पीपीटी प्रजेंटशन से पहले केजरीवाल का एक वीडियो चलाया, जिसमें केजरीवाल ये दावा कर रहे हैं कि हमने लोगों से पार्टी चलाने के लिए जो भी चंदा लिया उसे वेबसाइट पर डाला है। इस वीडियो में केजरीवाल लोगों से पार्टी को चंदा देने की अपील कर रहे हैं। कपिल मिश्रा ने पहला आरोप लगाया कि लगातार तीन साल तक पार्टी ने चंदे के लिए जो भी राशि वेबासाइट पर डाली और चुनाव आयोजग को जो जानकारी दी उसमें पूरी तरह घपलेबाजी की गई। कपिल मिश्रा ने बताया कि 2013 से 2016 के बीच जो भी जानकारी चुनाव आयोग को दी गई उसमें असली जानकारी को छुपाया गया। कपिल मिश्रा ने बताया कि 2013-14 के बीच पार्टी ने अपनी साइट पर दिखाया कि उसे कुल 9 करोड़ रूपये के करीब चंदा दिया गया जबकि कपिल मिश्रा का दावा है कि उस साल पार्टी को 45 लाख का चंदा मिला। इस जानकारी को पार्टी ने छिपाया। कपिल ने दावा किया कि इस दौरान 461 बोगस एंट्रियां भी पाई गईं। आप का जवाब कपिल मिश्रा द्वारा आम आदमी पार्टी के चंदे पर लगाए गए आरोपों पर सफाई देते हुए आप प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि इस पूरे खेल में भारतीय जनता पार्टी शामिल है। संजय सिंह ने कहा कि इस पूरी साजिश के पीछे आम आदमी पार्टी को खत्म करने की साजिश है। संजय सिंह ने पिछले दो सालों से इस तरह के आरोप हमारी पार्टी पर लगाए जा रहे हैं। आप विधायक की फर्जी कंपनियां कपिल मिश्रा के साथी नील मिश्रा ने बताया कि केजरीवाल को चंदा देने वाले शिवचरण गोयल की कंपनी पूरी तरह फर्जी है जिसने कई नाम से कंपनियां खोली हैं। उसके लेन-देन का डाटा पेश करते हुए नील का दावा है कि इसकी सभी कंपनियां फर्जी हैं जिसने एक ही रात में पार्टी के फंड में पैसे ट्रांसफर किए। कपिल मिश्रा और नील मिश्रा ने इन पांच लोगों पर आरोप लगाया जिन्होंने रातोंरात पार्टी को दिए दो करोड़ रुपये। पार्टी का कहना है कि इन सभी ने हवाला के जरिए रातोंरात आम आदमी पार्टी के फंड में पैसे ट्रांसफर किए। शिवचरण गोयल राकेश झा दीपक अग्रवाल हेमंत कुमार सुशील कुमार गुप्ता (इंडियन नेशनल कांग्रेस का पूर्व नेता) महरौली के विधायक नरेश यादव पर भी किया वार कपिल मिश्रा ने दावा किया कि महरौली से आप विधायक नरेश यादव भी इसमें शामिल हैं। कपिल ने दावा किया कि नरेश यादव की पत्नी ने फर्जी कंपनी में निवेश किया है। उसी कंपनी से पार्टी को फंड दिया गया। आप का जवाब कपिल के आरोपों पर आप ने पलटवार करते हुए कहा कि ये सब कुछ बीजेपी के इशारे पर हो रहा है। बीजेपी आप को तोड़ना चाहती है। वो पार्टी आम आदमी पार्टी पर आरोप लगा रही है जिसके राष्ट्रीय अध्यक्ष कैमरे के सामने घूस लेते पकड़े गए थे। ये वो पार्टी है जो व्यापमं जैसे घोटाले में फंसी है। नोटबंदी से जुड़ा है पूरा मामला कपिल मिश्रा ने कहा कि बबलू और योगेचंद नाम के दो फर्जी लोग हैं जिनके नाम से शिवचरण गोयल की कंपनियों में पैसे लगाए गए। कपिल मिश्रा का कहना है कि इन सभी का खाता कृष्‍णानगर के एक्सिस बैंक में है जिस पर काले धन को सफेद बनाने का आरोप लग चुका है और उसके मैनेजर गिरफ्तार हो चुके हैं। आप का जवाब संजय सिंह के बाद आम आदमी पार्टी के नेता राघव चड्ढा ने प्रेस को संबोधित करते हुए कहा था कि बीजेपी आप पर हमला करने के लिए शिखंडी का सहारा ले रही है। उनका कहना था कि अगर चंदे लेने में कोई गड़बड़ी हुई है तो पिछले तीन साल से केंद्र में बीजेपी की सरकार है और उनके पास ही आयकर से लेकर सीबीआई तक सब है तो वो कोई कार्यवाही क्यों नहीं करते। केजरीवाल ने काले धन को किया सफेद कपिल मिश्रा ने अरविंद केजरीवाल पर कालेधन को सफेद करने का आरोप लगाया। उन्होंने आम आदमी पार्टी का 2013-14 का खाता दिखाया। कपिल ने दावा किया कि चुनाव आयोग को पार्टी फंड की गलत जानकारी दी गई। उन्होंने बताया कि रमेश बेला कोंडा ने एक करोड़ से ज्यादा चंदा दिया। -प्रिया बंसल ने 90 लाख का चंदा दिया -एक्सिस बैंक का एक चेक पेश किया जो 21 लाख का है जिसमें कोई तारीख नहीं पड़ी है। -एक्सिस बैंक का 50 लाख का ब्लैंक चेक 'आप' पार्टी के ऑफिस से मिला। -एक्सिस बैंक का 50 लाख का दूसरा ब्लैंक चेक 'आप' पार्टी के ऑफिस से मिला। -एक्सिस बैंक के 35 करोड़ रुपये के दो चेक हैं जिसमें तारीख नहीं लिखी गई थी। आप का जवाब किसी एक शख्स के चंदे देने की बात पर सफाई देते हुए पार्टी का कहना है कि अगर नोटबंदी के दौरान कोई एक बैंक शक के दायरे में आया तो क्या उसके सभी ग्राहकों को आप चोर मान लेंगे। जिस भी शख्स ने हमें महीने में लाख रूपये चंदे दिए हैं उसने चेक से हमें ये पैसा दिया है जिसका पूरा लेखा-जोखा बैंक सहित हमारे पास भी है तो इसमें गलत जैसी क्या बात है ये समझ से परे है।