इस जुर्म में शामिल है अमेरिकी नागरिक भी

मुंबई डायरेक्टोरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलीजेंस (डीआरआई) ने प्राचीन मूर्तियों और पेंटिग्स की तस्करी से जुड़े मामले में उदित जैन नामक शख्स को गिरफ्तार किया है. इस मामले में भारतीय अमेरिकी नागरिक विजय नंदा को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है.
डीआरआई अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली निवासी उदित जैन भारत में विजय नंदा के तस्करी के धंधे को संभालता था. उदित जैन को 2 मार्च को डीआरआई द्वारा समन भेजा गया और उनके बयान दर्ज किए गए थे. पूछताछ में उदित जैन ने कबूल किया कि उन लोगों ने भारत से बेशकीमती प्राचीन मूर्तियां तस्करी कर हांगकांग के बाजार में बेची थीं. तस्करी किए गए बेशकीमती सामान में गुप्ता काल की चूड़ियां और सिक्के शामिल थे. साथ ही चोला काल की तांबे की मूर्तियां और पत्थरों की दुर्गा, गणेश की मूर्तियां भी शामिल थीं. इन प्राचीन मूर्तियों को भारत के कई हिस्सों से चुराया गया था. जैन ने अधिकारियों को बताया कि वह लोग इन मूर्तियों को हैंडीक्राफ्ट और ज्वैलरी कंसाइ नमेंट की आड़ में विदेश भेजते थे. पूछताछ के बाद उदित जैन को फिलहाल न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. बताते चलें कि उदित जैन पहले भी तस्करी मामले में डीआरआई चेन्नई द्वारा गिरफ्तार किए जा चुका है. इस केस में उदित जैन 45 दिन के लिए जेल की सजा भी काट चुका है. गौरतलब है कि प्राचीन मूर्तियों और पेंटिग्स की तस्करी के मामले में व्यवसायी विजय नंदा पहले से ही न्यायिक हिरासत में हैं.