मणिपुर की राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला केंद्रीय विश्वविद्यालय जामिया मिल्लिया इस्लामिया की चांसलर बनने के बाद पहली बार सोमवार को विश्वविद्यालय का दौरा करेंगी. इस दौरान नजमा यूनिवर्सिटी में उपकुलपति ऑफिस प्रांगड़ में 102 फ़ीट ऊंचे तिरंगे का उद्घाटन करेंगी. 30 फुट लंबे और 20 फुट चौड़े इस तिरंगे को उपकुलपति कार्यालय के गेट के ठीक सामने फहराया जाएगा. उपकुलपति तलत अहमद के मुताबिक राष्ट्रध्वज राष्ट्रीय एकता, मज़बूत भारत और देशभक्ति का प्रतीक है. यह भारत की विविधता में एकता को भी दर्शाता है और इसी भावना को और मजबूत करने के लिए यूनिवर्सिटी ने इतने ऊंचे झंडे को लगाने का फैसला किया. नजमा हेपतुल्ला यूनिवर्सिटी की ज़ाकिर हुसैन लाइब्रेरी में 'वॉल ऑफ हीरोज़' का भी उद्घाटन करेंगी. इस दीवार पर 21 परमवीर चक्र विजेताओं के पोर्ट्रेट लगाए जाएंगे. यह वॉल लाइब्रेरी में 'वॉल ऑफ फाउंडर्स' के बगल बनाई गई है. 'वॉल ऑफ फाउंडर्स' पर 100 साल से ज़्यादा पुरानी इस यूनिवर्सिटी के फाउंडर्स और अब तक के सभी उप-कुलपति के पोर्ट्रेट लगे हैं. डॉक्टर हेपतुल्ला यूनिवर्सिटी के सभी डीन, विभागाध्यक्ष और केंद्र निदेशकों से अकादमिक मसले पर चर्चा भी करेंगी. डॉक्टर नज्म हेपतुल्ला को 25 मई को यूनिवर्सिटी कोर्ट यानी अंजुमन ने पांच साल के लिए चांसलर नियुक्त किया है. लेफ्टिनेंट जनरल ज़की का कार्यकाल खत्म होने के बाद डॉक्टर हेपतुल्ला को यह ज़िम्मेदारी दी गई है.