उत्तरी कश्मीर के बिजबेहरा इलाके में आतंकियों ने शनिवार सुबह सेना और सीआरपीएफ के कैंप को निशाना बनाते हुए गोलीबारी की. हालांकि इस हमले में किसी जवान के हताहत होने की फिलहाल खबर नहीं है. प्राप्त जानकारी के मुताबिक, आतंकियों ने दूर से ही गोलियां चलाई और फिर भाग खड़े हुए. पुलिस फिलहाल इन हमलावरों की तलाश में जुटी है और इलाके को घेर रखा है. आतंकियों ने यहां सीआरपीएफ की 90वीं बटालियन और 1 राष्ट्रीय राइफल्स के कैंप को निशाना बनाया. ये दोनों टुकड़ियां लश्कर आतंकी जुनैद मट्टू को मार गिराने वाले अभियान में शामिल थी. ऐसे में आंतकियों के इस हमले से उनकी बौखलाहट साफ दिखाई पड़ती है.
 बता दें कि दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग जिले स्थित अरवनी गांव में सेना ने खुफिया जानकारी के आधार पर पुलिस और सीआरपीएफ के साथ मिलकर शुक्रवार सुबह ने ऑपरेशन चलाया था. इस दौरान सुरक्षा बलों ने गांव को चारों तरफ से घेर लिया था. सेना और पुलिस के ज्वाइंट ऑपरेशन में जुनैद मट्टू समेत तीनों आतंकी ढेर कर दिए गए थे. इस बीच कुछ ग्रामीणों ने सुरक्षा बलों की कार्रवाई का विरोध करते हुए पत्थरबाजी भी की थी.
इसके बाद शुक्रवार शाम बौखलाए लश्कर आतंकियों ने अनंतनाग के अचाबल में घात लगाकर पुलिस दल पर हमला किया, जिसमें एसएचओ फिरोज डार समेत छह पुलिसकर्मियों की मौत हो गई. इतना ही नहीं, लश्कर के खूंखार आतंकियों ने पुलिसकर्मियों के चेहरे पर भी गोलियां मारी और शव के साथ बर्बरता की. साथ ही पुलिसकर्मियों के हथियार छीनकर फरार हो गए.