इसके तहत राजधानी में न्यूनतम मजदूरी 9724 रुपये की जगह अब 13,350 रुपये हो जाएगी।

दिल्ली सरकार ने मजदूरों को होली का तोहफा देने के लिए न्यूनतम मजदूरी को 36 फीसद बढ़ाने के प्रस्ताव को कैबिनेट से मंजूरी दी थी। अब न्यूनतम मजदूरी बिल को उपरज्यपाल अनिल बैजल से भी हरी झंडी मिल गई है। बैजल ने दिल्ली सरकार के न्यूनतम मजदूरी बिल के प्रस्ताव को पास कर दिया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निवास पर शनिवार को हुई कैबिनेट की बैठक में इस मसले पर पूर्व उपराज्यपाल (एलजी) नजीब जंग द्वारा गठित कमेटी की सिफारिशों पर फैसला लिया गया।

नजीब जंग ने खारिज कर दिया था प्रस्ताव -

दिल्ली सरकार की कैबिनेट ने गत अगस्त में न्यूनतम वेतन में बढ़ोतरी का प्रस्ताव स्वीकृत कर तत्कालीन एलजी नजीब जंग के पास भेजा था। लेकिन जंग ने दिल्ली सरकार के इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया था। जंग ने दिल्ली सरकार से कहा था कि उनसे इस बारे में अनुमति नही ली गई थी। दिल्ली सरकार द्वारा फिर से इस प्रक्रिया को शुरू किया गया था जिस पर जंग ने इस मामले में अपनी राय देने के लिए एक कमेटी बना दी थी। इस कमेटी की सातवीं बैठक की सिफारिशों को दिल्ली सरकार ने मान लिया है। इस मौके पर केजरीवाल ने औद्योगिक क्षेत्र के लोगों से अपील की थी कि वे मजदूरों को उनका पूरा वेतन दें।