मोदी का नेहरू मोमेंट, 30 जून की रात 12 बजे घंटा बजाकर लाएंगे GST

सरकार स्वतंत्र भारत के सबसे बड़े कर सुधार कहे जा रहे जीएसटी की शुरूआत देश की आजादी की उद्घोषणा के कार्यक्रम की तर्ज पर करने जा रही है. इस नई अप्रत्यक्ष कर प्रणाली की शुरूआत 30 जून की आधी रात को संसद के ऐतिहासिक केंद्रीय कक्ष में होगी जहां 15 अगस्त 1947 की आधी रात को तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने ऐतिहासिक भाषण नियति के साथ मिलने दिया था. सरकार संभवत: पहली बार नई कराधान प्रणाली शुरू करने के लिये केंद्रीय कक्ष का उपयोग करेगी. नई अप्रत्यक्ष कर प्रणाली 2,000 अरब डालर से अधिक अर्थव्यवस्था को नया रूप देगी. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि जीएसटी लागू होने की पूर्व संध्या पर कार्यक्रम संभवत: 30 जून को रात 11 बजे शुरू होगा और मध्यरात्रि तक चलेगा. एक जुलाई से जीएसटी लागू होना है.
यह भी पढ़े :  इनकम टैक्स जमा नहीं कराया तो इतना ब्याज आज से ही देना होगा
मध्यरात्रि में घंटा बजेगा जो यह रेखांकित करेगा जीएसटी आ गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कार्यक्रम में मुख्य वक्ता होंगे जहां राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भी आमंत्रित किया जाएगा. पूर्व संप्रग सरकार में मुखर्जी जब वित्त मंत्री थे, उन्होंने जीएसटी विधेयक को आगे बढ़ाया था. कार्यक्रम के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी मौजूद होंगे. इसके अलावा पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा भी केंद्रीय कक्ष में मौजूद रहेंगे. सूत्रों ने कहा कि सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को भी कार्यक्रम में आमंत्रित किया जाएगा क्योंकि जीएसटी राजकोषीय संघवाद की दिशा में अप्रत्याशित मुहिम को प्रतिबिंबित करता है.
यह भी पढ़े :  Exclusive interview with TVS President K.N. Radhakrishnan
जीएसटी परिषद के सदस्य अतिथि होंगे. केंद्र एवं राज्य सरकारों को एक साथ लाने वाली जीएसटी परिषद की 17 बार बैठक हुई ताकि नई कर व्यवस्था को अंतिम रूप दिया जा सके. पहले जीएसटी की शुरूआत विज्ञान भवन से होनी थी. लेकिन नई कर संहिता की अहमियत को देखते हुए केंद्रीय हॉल को बेहतर विकल्प माना गया. नई अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था एक दर्जन से अधिक शुल्कों को स्वयं में समाहित कर एकल बाजार तैयार करेगा जिसकी आबादी अमेरिका, यूरोप, ब्राजील, मैक्सिको तथा जापान को मिलाकर अधिक है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *