टीम इंडिया और बांग्लादेश के बीच चैंपियंस ट्रॉफी के दूसरे सेमीफाइनल मैच में एक बार फिर पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने पिछले साल खेले गए टी 20 वर्ल्डकप के पुराने वाकये की याद दिला दी. दरअसल बांग्लादेश की पारी के आखिरी ओवर में भुवनेश्वर कुमार बोलिंग कर रहे थे. बांग्लादेश का कुल स्कोर 263 था. तस्कीन अहमद स्ट्राइक पर थे. आखिरी ओवर की अंतिम गेंद पर एमएस धोनी ने अपने ग्लव्स उतार लिए ताकि स्ट्राइक पर मौजूद तस्कीन अहमद रन न चुरा पाएं. याद आ गया ये पुराना वाकया इस वाकये ने पिछले साल बांग्लादेश और भारत के बीच बेंगलुरु में खेले गए टी20 वर्ल्ड कप की याद दिला दी. उस मैच में अंतिम गेंद पर बांग्लादेश को दो रनों की दरकार थी. पंड्या की ऑफ स्टंप के बाहर फेंकी गई गेंद तक सुवागता होम नहीं पहुंच सके और बाई रन के लिए दौड़ पड़े. गेंद धोनी के पास थी और वह विकेट की ओर मुस्ताफिजुर रहमान को रन आउट करने के लिए दौड़ पड़े. धोनी ने बिजली सी तेजी दिखाते हुए मुस्ताफिजुर को रन आउट कर दिया. इस तरह भारत यह मैच एक रन के अंतर से जीत गया. धोनी ने की गलती और देने पड़े पांच रन आज भारत और बांग्लादेश के बीच मुकाबले में उनकी पारी के 40वें ओवर के दौरान धोनी की एक गलती का भी बांग्लादेश की टीम को फायदा हुआ और उसे पांच रन मिले. दरअसल धोनी जब विकेटकीपिंग कर रहे थे तो मैच के बीच उन्होंने अपना एक ग्लव्स उतारकर पास में रख दिया लेकिन अगली ही गेंद पर बांग्लादेश के बल्लेबाज ने ऐसा शॉट खेला कि गेंद सीधे उनके ग्लव्स से जा टकराई.
क्या कहते हैं क्रिकेट के नियम क्रिकेट के नियमों के मुताबिक अगर फील्डिंग टीम की ओर से गेंद के रास्ते में कोई बाधा उत्पन्न की जाती है तो बल्लेबाजी कर रही टीम को पांच रन मिलते हैं. ये पांच रन उस बल्लेबाज के खाते में जुड़ते हैं जिसने वो शॉट लगाया होता है. हालांकि बांग्लादेश के ये पांच रन अतिरिक्त के खाते में जुड़े क्योंकि अंपायर ने कंधे से बॉल लगने का इशारा किया.