राष्ट्रपति चुनाव को लेकर आम आदमी पार्टी से संपर्क न करने पर पार्टी नेता संजय सिंह ने बीजेपी और कांग्रेस पर निशाना साधा है. 'आप' के मुताबिक राष्ट्रपति उम्मीदवार की घोषणा से पहले एनडीए की 3 सदस्यों की कमिटी ने तमाम राजनीतिक दलों से मुलाकात की, लेकिन आम आदमी पार्टी से बातचीत नहीं की. राष्ट्रपति चुनाव के लिए एनडीए से रामनाथ कोविंद को उम्मीदवार बनाए जाने के बाद जब आम आदमी पार्टी से सवाल पूछा गया कि वे किसका समर्थन करेंगे तो जवाब देने की बजाय 'आप' प्रवक्ता संजय सिंह भड़क गए. उन्होंने कहा कि बीजेपी के लोग आम आदमी पार्टी को कोई दल ही नहीं मानते हैं. सिंह ने कहा- 'राष्ट्रपति चुनाव के संबंध में NDA ने राजनाथ सिंह, वेंकैया नायडू और अरुण जेटली को अलग-अलग राजनीतिक दलों से बात करने की जिम्मेदारी दी थी. इस कमिटी ने कांग्रेस, CPI, CPM, BSP और शिवसेना जैसे दलों से बातचीत की. लेकिन बीजेपी ने आम आदमी पार्टी से संपर्क करना जरूरी नहीं समझा.' आम आदमी पार्टी का मानना है कि अगर राजनीतिक दलों से इस तरह दूरी बनाई जाएगी तो राष्ट्रपति चुनाव के लिए UPA या NDA को समर्थन मिलना एक मुश्किल काम होगा. संजय सिंह ने कहा- 'कांग्रेस नेता आनंद शर्मा कहते हैं आम आदमी पार्टी की कोई औकात नहीं है. लोकतंत्र में आज कांग्रेस की ऐसी हालत इसलिए है क्योंकि उनको आम आदमी की ताकत पता नहीं है. इस तरह के बयान से कांग्रेस का अहंकार झलकता है.' दूसरी तरफ कुमार विश्वास सोशल मीडिया पर अपनी ही पार्टी से हटकर टिप्पणी करते नजर आए. एनडीए के राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद पर विश्वास ने ट्वीट करते हुए लिखा- 'सत्तर बरस बिताकर सीखी लोकतंत्र ने बात, महामहिम में गुण मत ढूंढो, पूछो केवल जात?' आम आदमी पार्टी का कहना है कि सभी दलों के राष्ट्रपति उम्मीदवार का ऐलान हो जाने के बाद पार्टी का राष्ट्रीय नेतृत्व एक बैठक कर फैसला लेगा कि राष्ट्रपति चुनाव में किस दल को समर्थन करना है.