रविवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से उनके आवास पर मुलाकात की. राष्ट्रपति चुनावों के लिए सहयोगी दलों से समर्थन हासिल करने की कवायद के तहत यह मुलाकात हुई. पार्टी संगठन को मजबूत करने के लिए महाराष्ट्र के तीन दिन के दौरे पर गए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि राजग के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के नाम को अंतिम रूप देने से पहले उनकी पार्टी सभी सहयोगियों से चर्चा करेगी. सूत्रों के मुताबिक इस पर शिवसेना प्रमुख ने कहा कि भाजपा द्वारा इस पद के उम्मीदवार के लिए अपनी पसंद का खुलासा करने के बाद पार्टी समर्थन के मुद्दे पर फैसला लेगी. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ शाह ठाकरे के आवास पहुंचे और बंद कमरे में बैठक की. दोनों के बीच मुलाकात सुबह करीब 10 बजे शुरू हुई और यह 75 मिनट तक चली. बता दें कि भाजपा की प्रदेश इकाई के प्रमुख रावसाहेब दानवे और शिवसेना के वरिष्ठ सांसद और पार्टी अध्यक्ष के करीबी सहयोगी संजय राउत, इस बैठक का हिस्सा नहीं थे. सूत्रों के मुताबिक, बैठक के दौरान शाह ने शिवसेना से राष्ट्रपति पद के लिए भाजपा नामित उम्मीदवार के समर्थन की अपील की. हालांकि ठाकरे ने कहा कि वह 17 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनावों के लिए अपने समर्थन से पहले सत्ताधारी पार्टी के उम्मीदवार का नाम जानना चाहेंगे. वहीं शाह ने कहा कि उम्मीदवार के नाम का ऐलान नरेंद्र मोदी द्वारा किया जाएगा. हमें शिवसेना का समर्थन मिलने की उम्मीद है. ठाकरे ने कहा कि उनकी पार्टी को उम्मीदवार के नाम का ऐलान करना चाहिए उसके बाद ही शिवसेना यह फैसला कर सकती है कि समर्थन देना है या नहीं. शिवसेना ने पहले भी कहा था कि राष्ट्रपति चुनाव में वह स्वतंत्र रास्ता चुन सकती है. इससे पहले के दो चुनावों में उसने कांग्रेस उम्मीदवार प्रतिभा पाटिल और प्रणब मुखर्जी का समर्थन किया था. शिवसेना ने हाल ही में राष्ट्रपति पद के लिए हरित क्रांति के जनक एम एस स्वामीनाथन का नाम सुझाया था. मध्यावधि चुनाव के लिए तैयार रहने वाले फडणवीस के बयान पर शाह ने कल कहा था कि उनका मतलब यह था कि अगर मध्यावधि चुनाव थोपा जाता है तो हम चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं. महाराष्ट्र सरकार की ओर से घोषित हालिया कर्ज माफी पर शाह ने कहा कि इसके जरिए सरकार किसानों को राहत प्रदान कर रही है.