पाकिस्तान चीन के साथ अपने रिश्ते को और मजबूत बनाने के लिए गधों को इस्तेमाल करने की योजना बना रहा है. पाकिस्तान ‘गधा विकास कार्यक्रम’ के तहत अपने यहां के गधे चीन को बेचेगा. इसके लिए वह पश्चिमोत्तर खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में एक अरब डॉलर का निवेश करने जा रहा है. इस प्रांत में गधों की आबादी बढ़ाने के लिए पाकिस्तान कई कदम उठा रहा है. बता दें कि गधे की खाल का चीन में काफी इस्तेमाल होता है. गधे की खाल से निकली हुई जिलेटिन से महंगी दवाइयां समेत अन्य चीजें बनायी जाती है. चीन में इस जानवर की खाल काफी कीमती है. एक्सप्रेस ट्रिब्यून के मुताबिक, गधा निर्यात प्रस्ताव इस महीने चीन में दो दिवसीय रोड शो के दौरान निवेशकों को पेश किया जायेगा. दस्तावेजों के मुताबिक, प्रस्तावित परियोजना का मकसद स्थानीय गधों के स्वास्थ्य और संख्या बेहतर कर गधा पालनेवाले समुदायों की सामाजिक आर्थिक स्थिति बेहतर करना है. इसके मुताबिक, नयी प्रौद्योगीकियां पेश की जायेंगी और गधा पालनेवालों की क्षमता निर्माण करने के लिए काम किया जायेगा. खैबर पख्तूनख्वा सरकार गधों की कीमतें बेहतर करने के लिए लिंकेज विकसित करेगी और इससे पालनेवालों और इसके व्यापारियों की आय बढ़ायेगी. परियोजना को संयुक्त उद्यम के जरिये क्रियान्वित किया जा सकता है.