350वां प्रकाशोत्सव पर्व में शुकराना समारोह के लिए PM ने CM नीतीश को सराहा

पटना। पटना में अाजकल मिनी पंजाब बसा हुआ है और ‘वाहो -वाहो गोविन्द सिंह, आपे गुरु चेला, राज करेगा खालसा, आकी रहे ना कोई, जो बोले सो निहाल, सत श्री अकाल, सतिनाम श्री वाहि गुरु जैसे धार्मिक नारों से पूरा पटना गूंजायमान है। पिछले तीन दिनों से पटना में मनाया जा रहा शुकराना समारोह में शामिल होने के लिए देश-विदेश से श्रद्धालु यहां पहुंचे हुए हैं। पटना में 350वें प्रकाशोत्सव पर्व के समापन पर शुकराना समारोह आयोजित किया गया है और इस समारोह को लेकर पूरे पटना में जी आया नूं की धूम मची है।350वां प्रकाशोत्सव पर्व में शुकराना समारोह के लिए PM ने CM नीतीश को सराहा राज्य सरकार ने पटना पहुंचे श्रद्धालुओं की विशेष सुविधा के लिए बेहतर इंतजाम किए हैं। आज सुबह से ही तख्त श्रीहरिमंदिर में शबद कीर्तन चल रहा है और अमृतसर से आए रागी जत्था के कलाकारों का भजन चल रहा है। तख्त श्रीहरिमंदिर साहिब के पंडाल में किर्तन दरबार चल रहा है। पंजाब के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर भी तख्त श्री हरमंदिर जी पटना साहिब में पहुंचे और लोगों का अभिवादन किया। 

शनिवार को शु्रू हुआ शुकराना समारोह, सीएम ने किया उद्घाटन

350 वें प्रकाश पर्व का समापन समारोह ‘शुकराना समारोह’ शनिवार से शुरू हो गया। लंगर व्यवस्था, संगत के रहने की सुविधा, उनको संभालने की सेवा, जोड़ा घर गठरी घर की सेवा बेमिसाल है। देश-विदेश से आए हजारों सिख श्रद्धालु बिना किसी भेद भाव के इसे कर रहे हैं। शुक्रवार को बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने इस समारोह का उद्घाटन किया था। पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह भी शुक्रवार को यहां पर अपना मत्था टेक चुके हैं। वहीं पीएम नरेंद्र मोदी ने भी प्रकाशोत्सव पर्व के सफल और भव्य आयोजन को लेकर ट्वीट कर सीएम नीतीश कुमार को बधाई दी थी।

पटना आकर निहाल हुए सिख श्रद्धालु

देश-विदेश से आए श्रद्धालु राज्य सरकार की ओर से की गई व्यवस्था को देखकर अत्यंत खुश हैं और लोगों का कहना है कि यहां आकर बहुत अच्छा लग रहा है। श्रद्धालुओं के रहने के लिए टेंटसिटी बनायी गई है जिसमें सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं। बाईपास टेंट सिटी में 100 से ऊपर ई रिक्शा उपलब्ध कराया गया है। सुरक्षा को देखते हुए 8000 से अधिक पुलिस जवान तैनात किए गए हैं वही बड़ी संख्या में वरीय अधिकारियों को भी लगाया गया है इस अवसर पर तख्त हरिमंदिर साहिब को आकर्षक तरीके से सजाया गया है जिसकी भव्यता देखकर बन रही है। बाईपास टेंट सिटी, कंगन घाट,  गुरुद्वारा में लंगर चलाए जा रहे हैं जहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु लंगर छक रहे हैं।   
यह भी पढ़े :  अस्थि कलश यात्रा का कुछ ऐसा रहा नज़ारा

एसएस अहलूवालिया ने कहा-सीएम नीतीश का नाम सरदार नीतीश होना चाहिए

पटना पहुंचे केंद्रीय पेयजल और स्वच्छता राज्य मंत्री एसएस अहलुवालिया ने कहा कि मैं नीतीश कुमार को क्या उपाधि दूं? सिख रत्न कहूं? पंथ रत्न कहूं? क्या कहूं? मेरा मानना है कि गुरु गोविंद सिंह जी महाराज के 350 वें प्रकाश पर्व और फिर इसके शुकराना समारोह में जो भी नीतीश कुमार ने किया है, वह मानवता की सेवा है। इसकी जितनी भी सराहना की जाए कम है। उनके माता-पिता ने उनका नाम नीतीश कुमार रखा है। मुझे लगता है उनका नाम सरदार नीतीश कुमार होना चाहिए। उन्होंने मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि मालसलामी के पास रिकाबगंज में पुराने समय में बड़ी संगत लगती थी। कीर्तन होता था, लंगर चलते थे। उस जमीन पर कब्जा होता चला गया और वह विलोपित हो गया। ऐसे स्थलों समेत गौतम बुद्ध की तरह गुरु सर्किट का आप निर्माण कराएं और ऐसे जगहों को विकसित करें।

उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने श्रद्धालुओं का किया अभिनंदन

उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि गुरु गोविंद सिंह जी महाराज जैसा व्यक्तित्व बिरले ही पैदा होते हैं। वे त्याग और बलिदान के प्रतिमूर्ति थे। उन्होंने अपने चारों पुत्रों का बलिदान किया था। पिता का भी बलिदान हुआ था। बिहारवासी सौभाग्यशाली हैं कि ऐसे व्यक्तित्व का जन्म बिहार के पटना में हुआ था। बिहार सरकार उनके 350 वें प्रकाशोत्सव पर 50 करोड़ से अधिक खर्च किया था। शुकराना समारोह में भी 50 करोड़ से अधिक खर्च किया गया है। केंद्र सरकार का भी सहयोग मिला था।पटना सिटी में बनने वाले बहुद्देशीय प्रकाश केंद्र और उद्यान निर्माण के लिए भी केंद्र सरकार ने 50.88 करोड़ आवंटित किया है। केंद्र और राज्य मिल कर बिहार के विकास के लिए कार्य कर रहे हैं।
यह भी पढ़े :  लाहौर से आए छोटा रोहान को भारत में मिला नया जीवन

रविवार को नगर-कीर्तन में शामिल हुए श्रद्धालु

रविवार को शहीदों के पिता व शहीद का पुत्र श्री गुरु गोविंद सिंह के 350 वें प्रकाश पर्व का शुकराना एवं 351 वें प्रकाशोत्सव पर गायघाट स्थित बड़ी संगत गुरुद्वारा से निकले श्री गुरुग्रंथ साहिब के नगर-कीर्तन में शामिल श्रद्धालुओं ने श्रद्धा और आस्था के साथ दशमेश गुरु श्री गुरु गोविन्द सिंह महाराज के बताए रास्ते पर चलने का संकल्प लिया।

धार्मिक नारे, भजन-कीर्तन

नगर-कीर्तन में बैंडबाजों पर देह शिवा बर मोहे इहे, शुभ करमन ते कभु न टरूं ..बज रहे धुन के साथ नगर कीर्तन के मध्य में सिख श्रद्धालु व स्त्री साध-संगत की महिलाओं द्वारा’पंथ की जीत हो’, वाहे गुरु जी का खालसा,’वाहे गुरु जी की फतेह’ आदि धार्मिक नारे, भजन-कीर्तन, कथा-प्रवचन प्रस्तुत किए जा रहे थे।

बिहार-पंजाब का संगम लग रही पटना सिटी

श्री गुरु गोविंद सिंह जी महाराज के 350वें प्रकाश पर्व के शुकराना समारोह में शामिल होने के लिए हजारों सिख श्रद्धालु पटना सिटी पहुंच चुके हैं। ऐसा लगता है मानो यहां आजकल पंजाब उतर आया हो। बाईपास टेंट सिटी में बसे आवासीय क्षेत्र और दीवान साहिब का दरबार एवं परिसर श्रद्धालुओं से पट गया है। रंग-बिरंगी पगडिय़ां, कमर में लटकी कृपाण, सिख श्रद्धालुओं की आंखों में गुरु साहिब का प्यार झलक रहा है। पटना सिटी में श्रद्धा एवं भक्ति की सरिता बह रही है। जबरदस्त चहल-पहल है। प्रकाश पर्व पर आए सिख श्रद्धालुओं में खुशियों की लहर है। व्यवस्था देख सभी प्रसन्न हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *