आम आदमी पार्टी के 26 राउस एवेन्यू में मौजूद दफ़्तर को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है. अपनी सरकार के पीडब्ल्यूडी विभाग से मिल रहे एक के बाद एक नोटिस से परेशान पार्टी नेता संजय सिंह ने एलजी अनिल बैजल को चिट्ठी लिखकर पूछा कि आखिर क्या वजह है की सरकार का एक अफसर सत्ताधारी पार्टी को ऑफिस खाली कराने का नोटिस भेज रहा है? AAP नेता संजय सिंह अपनी चिट्ठी में बीजेपी पर निशाना साधते हुए लिखा 'भाजपा को बुरी तरह से शिकस्त देकर जब से दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार आई है तब से कोई न कोई अजीबोगरीब घटनाएं घट रही हैं. भारत के इतिहास में पहली बार हो रहा है कि 70 में से 67 सीट का अभूतपूर्व बहुमत पाने वाली पार्टी एक दफ्तर तक नहीं ले पा रही है और सारी व्यवस्था इन पार्टी के दफ्तर खाली कराने में लगी है. जिस पार्टी (बीजेपी) को 70 में से 3 सीटें मिली, उस पार्टी की केंद्र सरकार ने ही आपको दिल्ली में उप-राज्यपाल बनाया, जिसे 7 दफ़्तर आबंटित हैं. उस पर कोई सवालिया निशान न आप लगा रहे हैं न आपकी व्यवस्था.' संजय सिंह ने चिट्ठी में आरोप लगाया है कि जिस पार्टी को 70 में से जीरो सीट मिलीं, उस पर मेहरबान होकर एलजी ने 4 ऑफिस रखने दिए और न उन्हें खाली कराने की कोई कोशिश नहीं. लेकिन 70 में से 67 सीट मिलने वाली पार्टी के एक ऑफिस के पीछे आपकी पूरी व्यवस्था हाथ धोकर पड़ी है. ये ऑफिस ऐसा क्यों कर रहे हैं? क्या कोई कोर्ट का आदेश है? नहीं, कोर्ट का कोई आदेश नहीं है. सवाल उठता है कि फिर अफसर ऐसा क्यों कर रहे हैं? आम आदमी पार्टी का कहना है कि 'भाजपा के नेता खुलेआम अधिकारियों को धमकी देते हैं कि अगर केजरीवाल की पार्टी को नोटिस नहीं दिया तो उनका करियर बर्बाद कर देंगे. एलजी दफ्तर के अधिकारी खुलेआम सरकार के अधिकारियों को फोन करके धमकाते हैं कि यदि आम आदमी पार्टी के खिलाफ नोटिस नहीं दिए तो बर्बाद कर देंगे'.