सुपौल। कोसी के इस पिछड़े इलाके में हर साल विवाह के नाम पर दुल्हन की खरीद-फरोख्त की जाती है। खरीदार यूपी व हरियाणा सहित अन्य राज्यों के होते हैं, जो दूल्हे बनकर दलालों के माध्यम से पैसे के बल पर दुल्हन को ब्याह कर ले जाते हैं। ऐसे विवाह में बाल विवाह व मानव व्यापार जैसे गैर कानूनी कार्य की बू आती रहती है। बाद में ऐसे विवाह में बंधने वाली लड़कियों का कोई अता-पता उसके मां-बाप को नहीं चल पाता है। ऐसी शादी करवाने वाले यहां कई गिरोह सक्रिय हैं। ऐसे दो मामलों में स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रयास से कार्रवाई हुई तो एक शादी ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दे रुकवाई। यहां बिकती है दुल्हन, दूर-दूर से आते हैं खरीदार, जानिए पूरा मामला

हरियाणा के दूल्‍हे को किया गया गिरफ्तार

इसी साल मार्च में बाल विवाह मामले में त्रिवेणीगंज थाने के डपरखा गांव में हरियाणा के सोनीपत से ब्याह रचाने पहुंचे दूल्हा और उसकी चाची सहित पांच लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। पैसे का प्रलोभन देकर शादी हो रही थी। संस्था द्वारा पुलिस को बुलाए जाने पर ऐन वक्त पर मंदिर में चल रही शादी रुकवाई गई थी। इस मामले में एक स्थानीय महिला की गिरफ्तारी भी हुई थी।

यूपी का दूल्‍हा गिरफ्तार

18 दिसंबर को पिपरा थाना क्षेत्र के निर्मली पंचायत के वार्ड नंबर एक में गदरौली और कटीन्ना गांव, जिला बदायूं, यूपी से शादी रचाने पहुंचे तो दूल्हा समेत उसके एक दोस्त और स्थानीय एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया था। वहां भी नाबालिग से शादी हो रही थी।

उम्रदराज से हो रही थी नाबालिग की शादी 

सदर थाना क्षेत्र के कर्णपुर गांव में उत्तरप्रदेश के गाजियाबाद से आए उम्रदराज दूल्हे से हो रही नाबालिग से शादी को रुकवाने के लिए ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने दूल्हा, उसके दोस्त और लड़की के पिता को गिरफ्तार करने में सफलता पाई थी। बाद में लड़की के पिता से बंध पत्र भरवाकर छोड़ दिया गया था।

नहीं चला अता-पता

ग्राम विकास परिषद की सह सचिव हेमलता पांडे कहती हैं कि त्रिवेणीगंज थाने की कुसहा पंचायत के योगियाचाही में भी इस तरह की शादी होने का मामला सुनने में आया था। शादी के बाद लड़की ससुराल तो गई लेकिन उसके बाद उसके मां-बाप को अपनी बेटी के बारे में कोई अता-पता नहीं चल पाया है। निर्मली के वार्ड नंबर एक से एक अन्य मामला आया था। लड़की की मां ने बताया था कि उसकी बेटी की भी शादी यूपी में हुई थी। जब उसकी लड़की यहां से ब्याह कर यूपी गई तो वहां उसे बहुत तकलीफ दी जा रही थी। बाद में वह महिला वहां से अपनी बेटी को घर ले आई और यहां उसकी दूसरी शादी करवाई गई।