सार्वजनिक क्षेत्र की विमान सेवा कंपनी एअर इंडिया जबरदस्त घाटे में है. काफी समय से ऐसी खबरें आ रही है कि केंद्र सरकार एअर इंडिया को कर्ज के बोझ से मुक्त करने के रास्ते तलाश रही है. ऐसे में खबर है कि निजी कंपनी टाटा सरकार से एअर इंडिया को खरीद सकती है. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इस बाबत टाटा के अधिकारों और सरकार के बीच अनौपचारिक बातचीत भी हुई है. अगर ऐसा होता है तो असल में एअर इंडिया की यह घर वापसी होगी क्योंकि वर्ष 1953 से पहले एअर इंडीया का स्वामित्व टाटा समूह के पास ही था. रिपोर्ट में कहा गया है कि टाटा समूह के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने सरकार के साथ अनौपचारिक बातचीत की, जिसमें उन्होंने 51 प्रतिशत इक्विटी के साथ एयर इंडिया पर टाटा समूह के नियंत्रण की इच्छा जताई है. सरकार एक दशक से घाटे में चल रही विमान कंपनी एयर इंडिया के निजीकरण के बारे में विचार कर रही है. हाल ही में, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि विमानन मंत्रालय को उन सभी संभावनाओं का पता लगाने की जरूरत है जिससे एयर इंडिया का निजीकरण किया जा सकता है.एयर इंडिया के 52,000 करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज है.