भारत के अंडर-19 और 'ए' 'टीम के कोच राहुल द्रविड़ का कॉन्ट्रैक्ट दो साल के लिए बढ़ाया गया है. सूत्रों के मुताबिक भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की एडवाइजरी कमेटी ने द्रविड़ के कॉन्ट्रैक्ट को बढ़ाने का फैसला किया है. सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण वाली इस सलाहकार समिति ने कोच के तौर पर द्रविड़ को उपयुक्त माना है. द्रविड़ के नए अनुबंध के नियम और शर्तों को अंतिम रूप दिया जाना बाकी है. इसका मतलब हुआ कि कोच राहुल द्रविड़ को सीनियर टीम के कोच अनिल कुंबले की तरह इंटरव्यू प्रक्रिया से नहीं गुजरना पड़ेगा. उधर, कुंबले का एक साल कॉन्ट्रैक्ट रविवार को चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल के साथ ही खत्म हो गया. 23 जून से वेस्टइंडीज दौर में कुंबले ही कोच के तौर पर बरकरार रहेंगे. वैसे, टीम इंडिया के कोच के तौर पर कुंबले ही एडवाइजरी कमेटी की पसंद हैं. पूरी संभावना है कि कुंबले को 2019 के वर्ल्ड कप तक बने रहेंगे.
बीसीसीआई के एक अधिकारी के मुताबिक, "द्रविड़ के मौजूदा कॉन्ट्रैक्ट को बीसीसीआई विस्तार दे सकता है, जबकि कुंबले के अनुबंध में ऐसा नहीं है. यही कारण है कि कुंबले के मामले में नए आवेदकों को बुलाने की प्रक्रिया की पूरी की गई." रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले 10 महीने के कॉन्ट्रैक्ट अवधि के दौरान बीसीसीआई ने द्रविड़ को सैलरी के तौर पर 4 करोड़ रुपए से अधिक की राशि चुकाई है.