सेना से जुड़े ये विवाद भी खूब रहे थे चर्चाओं में

सेना प्रमुख पर कांग्रेसी नेता की टिप्पणी के बाद से राजनीतिक माहौल गर्मा गया है. सोशल मीडिया पर भी बयान को लेकर कांग्रेस की खिंचाई हो रही है. लेकिन ये कोई पहला मौका नहीं है जो सेना पर इस तरह की कोई टिप्पणी की गई हो. या फिर किसी विवाद को लेकर सेना सुर्खियों में आई हो. पिछले कुछ साल में ही सेना 10 ऐसे बड़े विवादों से जुड़ी है, जिसके चलते देश की राजनीति में भूचाल आ गया था. हम आपको बता रहे हैं इन विवादों के बारे में. ताबूत घोटाला- कारगिल युद्ध के दौरान शहीद सैनिकों के पार्थिव शरीर को उनके घर तक पहुंचाने के लिए ताबूत की खरीद हुई थी. लेकिन ताबूतों की खरीद में भी कमीशनबाजी के आरोप लगे थे. आदर्श सोसाइटी विवाद- कारगिल युद्ध में शहीद जवानों को मकान देने के लिए आदर्श सोसाइटी बनाई गई थी. लेकिन इसी बीच आरोप लगे कि सोसाइटी में शहीद जवानों के परिजनों को छोड़कर अफसरों को फ्लैट दे दिए गए थे.
टाट्रा ट्रक खरीद विवाद- रिटायर होने से कुछ समय पहले ही जनरल वीके सिंह के एक बयान ने सनसनी फैला दी थी. उनका आरोप था कि सेना के ही एक रिटायर अफसर ने उन्हें खराब गुणवत्ता के टाट्रा ट्रक खरीदने के लिए 14 करोड़ रुपये रिश्वत की पेशकश की थी. इसकी जानकारी उन्होंने उस वक्त रक्षामंत्री एके एंटनी को भी दी थी.
यह भी पढ़े :  एंबुलेंस निकलवाने के लिए इस पुलिसवाले ने रोक दिया प्रणब मुखर्जी का काफिला, होंगे सम्मानित
तख्ता पलट विवाद- जनरल रिटायर वीके सिंह के समय सरकार के तख्ता पलट की खबरें आईं थी. दो तरफ से सेना के दिल्ली की ओर मूवमेंट के आरोप लगे थे. इसे लेकर अच्छा खासा विवाद खड़ा हो गया था. कई दिन तक ये विवाद मीडिया की सुर्खियां बना था. हालांकि सेना और सरकार में से किसी ने इसकी पुष्‍टि नहीं की थी. आर्ट ऑफ लिविंग में सेना- आर्ट ऑफ लिविंग की ओर से दिल्ली में एक बड़ा कार्यक्रम आयोजित कराया गया था. कार्यक्रम की तैयारियों के लिए सेना का भी इस्तेमाल किया गया था. जिसे लेकर विपक्ष ने अच्छा खासा हंगामा खड़ा कर दिया था. सरकार को कटघरे में खड़ा करने की कोशिश की गई थी. सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत- पाक के खिलाफ सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक की थी. लेकिन इस स्ट्राइक के बाद देश में राजनीतिक हंगामा खड़ा हो गया था. सेना के बहाने सरकार को घेरने की कोशिश की गई थी. सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगे जा रहे थे. ममता बनर्जी के आरोप- हाल ही में ममता बनर्जी ने एक आरोप लगाकर सनसनी फैला दी थी. उनका कहना था कि बिना किसी सूचना के सेना पश्चिम बंगाल में सड़कों पर उतर आई है. ये तख्ता पलट की कोशिश है. इसे लेकर खास बवाल मचा था. केन्द्र सरकार पर भी आरोप लगाए गए थे.
यह भी पढ़े :  शरीफ के इस्तीफे के बाद PAK में अस्थिरता को लेकर क्यों चिंतित है भारत?
उड़ी हमले पर ओमपुरी का बयान- उड़ी हमले पर एक टीवी इंटरव्यू के दौरान बयान देकर फिल्म एक्टर ओमपुरी ने हंगामा खड़ा कर दिया था. उन्होंने कहा था कि सेना के जवानों को जबरन कौन कहता है कि वह सेना में जाएं. इस मामले में बाद में ओमपुरी को माफी मांगनी पड़ी थी. जीप से बांधने पर पकड़ा तूल- हाल ही में कश्मीर में चुनावों के दौरान एक युवक को जीप से बांधने की एक घटना सामने आई थी. सेना के मेजर ने पत्थरबाजों से बचने के लिए युवक को जीप के आगे बोनट से बांध दिया था. जनरल बिपिन रावत पर टिप्पणी- नया विवाद सबके सामने है. कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित ने जनरल बिपिन रावत पर विवादित बयान देकर नए विवाद को जन्म दे दिया है. उन्होंने जनरल को सड़क का गुंडा कहा था. इसके बाद से कांग्रेस की खिंचाई जारी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *